Monday, January 30, 2012

ज़िन्दगी तूने मुझे कब्र से कम दी है ज़मीं
पाँव फैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है । B. Badar

No comments:

Post a Comment