Tuesday, January 31, 2012

तुम ही ने हम को सुनाया न अपना दुःख वरना 
दुआ वो करते के हम आसमान हिला देते.. Wasi Shah

No comments:

Post a Comment