Monday, January 30, 2012

मुसाफिर बे-खबर हैं तेरी आँखों से,
तेरे शहर में मैखाने ढूँढ़ते है.

No comments:

Post a Comment