Monday, January 30, 2012

किताबों में मेरे फ़साने ढूँढ़ते है,
नादान हैं गुज़रे ज़माने ढूँढ़ते है.

No comments:

Post a Comment