Tuesday, January 31, 2012

मैं हंस के झेल लेता हूँ जुदाई की सभी रस्में ,
गले जब उसके लगता हूँ तो आंखें भीग जाती हैं.. Wasi Shah

No comments:

Post a Comment