Tuesday, January 31, 2012

लबों से चूम लो आँखों से थाम लो मुझको
तुम्हीं से जन्मूँ तो शायद मुझे पनाह मिले..

No comments:

Post a Comment