Tuesday, January 31, 2012

शाम होते ही वो चौखट पे जला के शमा
अपनी पलकों पे कई ख्वाब सुलाती होगी.. Wasi Shah

No comments:

Post a Comment