Tuesday, January 31, 2012

ना जाने किस लिए उमीदवार बैठे हैं ,
इक ऐसी राह पे जो तेरी राहगुज़र भी नहीं.....फैज़ अहमद फैज़

No comments:

Post a Comment