Monday, January 30, 2012

Teri talab ki hadd ne, aisa junoon bakhsha hai
Hum neend se uth baithe tujhe khawab me aata Dekh ker!!

तेरी तलब की हद ने ऐसा जनून बख्शा है,
हम नींद से उठ बैठे तुझे ख्वाब में आता देख कर..

No comments:

Post a Comment