Wednesday, February 1, 2012

हकीकत का अगर अफसाना बन जाये तो क्या कीजै
गले मिल के भी वो बेगाना बन जाये तो क्या  कीजै...

No comments:

Post a Comment