Wednesday, February 1, 2012

मेरे यकीन पे हंसने वाले
अब मुरीद हैं मेरे शक के.. Dakssh

No comments:

Post a Comment