Wednesday, February 8, 2012

मैं उसे ख़्यालों से निकालूँ तो कहाँ जाऊं फ़राज़
वो मेरी सोच के हर रास्ते पे नज़र आता है...

No comments:

Post a Comment