Saturday, March 17, 2012

लिबास

मेरे कपड़ों  में  टंगा है तेरा ख़ुशरंग लिबास
घर पे धोता हूँ मैं हर बार उसे , और सुखा के फिर से ,
अपने हाथों से उसे इस्त्री करता हूँ मगर,
इस्त्री करने से जाती नहीं शिकनें उसकी,
और धोने से गिले-शिकवों के चकते नहीं मिटते!

ज़िन्दगी किस कदर आसां होती
रिश्ते गर होते लिबास -
और बदल लेते कमीज़ों की तरह..

No comments:

Post a Comment