Sunday, March 18, 2012

किसे बताऊँ कि गुज़री है ज़िंदगी कैसे
जहां में कोई भी भाया, तो तेरी याद आयी - ख़ालिद शरीफ़

No comments:

Post a Comment