Sunday, March 18, 2012

मिलना था इत्तफ़ाक, बिछड़ना नसीब था
वो इतनी दूर हो गया, जितना करीब था

No comments:

Post a Comment