Sunday, March 18, 2012

फिर मेरी आँख हो गई नमनाक
फिर किसी ने मिज़ाज पूछा है

No comments:

Post a Comment