Saturday, March 17, 2012

ऐसे बिखरे हैं रात दिन जैसे
मोतियों वाला हार टूट गया

तुम ने मुझको पिरो के रखा था

No comments:

Post a Comment