Sunday, March 18, 2012

मैतेरा कुछ भी नहीं हूँ, मगर इतना तो बता
देखकर मुझको तेरे जेह्न में आता क्या है - शहज़ाद अहमद

No comments:

Post a Comment