Friday, October 4, 2013

सूखी दीवारों पे शक्लें सी बनाने आई
फिर ये बारिश मेरी तन्हाई बढ़ाने आई ..अज्ञात

No comments:

Post a Comment