Saturday, October 12, 2013

अजीब तिल्लसुम है तेरे वजूद का मुझ पर
टूटा मेरा हर ख़्वाब,मगर ये नहीं टूटा..

No comments:

Post a Comment