Friday, October 4, 2013

उस के जैसे हज़ारों चेहरे हैं मेरे सामने
दिल की ज़िद्द है कि वो नहीं तो उस जैसा भी नहीं ..unknown

Us ke jaise hzaaroN chehre hain mere saamne
dil ki zid hai ki woh nhin toh us jaisa bhi nhiN.. Unknown

No comments:

Post a Comment