Tuesday, October 8, 2013

सिर्फ़ इस शौक़ में पूछी हैं हज़ारों बातें
मै तेरा हुस्न तेरे हुस्न-ए-बयां तक देखूँ....
-अहमद नदीम कासमी

No comments:

Post a Comment