Friday, October 4, 2013

गुज़रते हैं बिना नक़ाब के जब भी वो चमन से
समझकर फूल, उन के लबों पर तितलियाँ बैठ जाती हैं- Unknown

No comments:

Post a Comment